Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways View Content in Hindi RDSO Logo
   
View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

वर्टिकल्स

निविदाएं

प्रदायक इंटरफ़ेस

विनिर्देश/आरेखण

हमसे संपर्क करें



Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
धातुकर्म और रासायनिक

धातुकर्म और रसायन (एम एंड सी) विभाग के बारे में:

भारतीय रेलवे में उत्कृष्ट, लागत प्रभावी और विश्वसनीय सामग्री को नियोजित करने के उद्देश्य  से सामग्रियों (धातु, मिश्र धातु, पेंट, ईंधन, स्नेहक, रबर, प्लास्टिक कंपोजिट, वेल्डिंग उपभोग्य इत्यादि) पर अनुसंधान, परीक्षण, मूल्यांकन एवं मानकीकरण के प्रमुख प्रतिष्ठान के रूप में कार्य करता है ।
यह “सलाहकार संस्था की तरह” रेलवे बोर्ड, अभिकल्प निदेशालय, क्षेत्रीय रेलवे एवं उत्पादन इकाइयों के लिए सामग्री चयन, सामग्री का अपग्रेडेशन, सामग्री का परीक्षण, सामग्री का भारतीयकरण, वेल्डिंग तकनीक, ढलाई तकनीक, एन.डी.टी तकनीक, पेंट तकनीक एवं  कार्य के दौरान विफल घटकों का अन्वेषण करता है। इसके अतिरिक्त, इस निदेशालय द्वारा रेलवे के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को एन.डी.टी. वेल्डिंग तकनीक, क्षरण निवारण तकनीक एवं विफलता विष्लेषण आदि के बारे में नवीनतम तकनीक से प्रशिक्षित एवं सुसज्जित करना है ।

 

संगठन चार्ट:

 

संक्षिप्त उपलब्धियाँ (2022-2023):

  1. रेल और वेल्ड के अल्ट्रासोनिक परीक्षण के लिये रेल सह सड़क वाहन (आर सी आर वी) का निर्देशित मानक 40 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से सफलतापूर्वक किया गया है ।
  2. निरंतर बी-स्कैन रिकॉर्डिंग और जी.पी.एस. स्थान अंकन के साथ 9 चैनल/प्रति रेल डिजिटल अल्ट्रासोनिक एकल और डबल रेल टेस्टर का विकास । 
  3. ट्रैक डिजाइन निदेषालय के साथ आर 260, आर 350 एच टी, 1080 एच एच (मेसर्स जिंदल स्टील प्राइवेट लिमिटेड और स्टील अथॉरिटी ऑफ इ्रंडिया लिमिटेड) रेलों केे विभिन्न ग्रेडों में उत्पादन प्रक्रिया का अनुमोदन और विकास
  4. 7303 ट्रैक आइटम जैसे रेल, आईएसईजे, थिक वेब स्विच, सीएमएस क्रांसिग, वेल्डेबल सीएमएस क्रांसिग आदि के साथ 90098 एम.टी. पुल गर्डर्स का निरीक्षण।
  5. दुर्घटनाओं, पटरी से उतरने, यातायात अवरोध से जुड़े 219 मामलों की धात्विक जांच ।
  6. एल एच बी व्हील्स के वेब हिस्से पर सतह की कमियों का पता लगाने के लिये एडी करेंट ऐरे टेस्टिंग (ईसीए) की शुरूआत ।
  7. रेलों के फ्यूज़न ए.टी. वेल्डिंग हेतु आई आर एस विषिष्टि (आईआरएस-टी-19-2020) में संशोधन।
  8. वेल्डेबल सी एम एस क्रांसिग (त्रि-धात्विक संयोजन) हेतु वेल्डिंग तकनीक एवं तकनीकि विशिष्टि का विकास।
  9. विशेष रूप से तटीय क्षेत्रों में प्रयुक्त होने वाली रेलों में 99.99 प्रतिशत Zn रेल के स्थान पर  Zn-Al (85% - 15%) धातुकरण से संबंधित विशिष्टि संख्या IRST- 51 के विकास में सहयोग प्रदान करना ।
  10. एल एच बी की फिएट बोगियों के प्राथमिक और द्वितीयक सस्पेंशन में इस्तेमाल हेलिकल क्वॉयल स्प्रिंग की पेंटिग के लिए आर.डी.एस.ओ. विशिष्टि सं. एम.एण्ड.सी/पीसीएन/132/2020 का विकास ।
  11. राष्ट्रीय इस्पात निगम लिमिटेड, लालगंज, रायबरेली में लोकोमोटिव पहियों के निर्माण और परीक्षण सुविधाओं का विकास एवं मानकीकरण। 
  12. रेल और धुरों के अल्ट्रासोनिक परीक्षण के लिए भारतीय रेलवे/निजी संगठनों के 2412 ऑपरेटरों का नियमित प्रशिक्षण ।
  13. रेल के अल्ट्रासोनिक परीक्षण के लिए आउट सोर्सिंग एजेेेेंसियों की यू.टी.मशीनों एवं संवेदनषीलता सेटिंग ब्लाकों का नियमित अनुमोदन ।
  14. ट्रैक डिजाइन निदेशालय के लिए रेल के विभिन्न ग्रेड जैसे आर 260, आर 350 एच टी, 1080 एचएच के फ्लैश बट वेल्डिंग और ए.टी. वेल्डिंग हेतु वेंडर का विकास ।
  15. विभिन्न फर्मों के लिए ए.टी. वेल्डरों का नियमित प्रमाणन ।
  16. सवारी डिब्बा निदेशालय के साथ एल.एच.बी. कोचिंग व्हील के लिये विशिष्टि  (आई.आर.एस. आर-19 पार्ट-।।) का विकास।
  17. पुल एवं संरचना निदेशालय के लिए विभिन्न प्रकार के स्टील गर्डर्स जैसे ओपेन वेब, आर.ओ.बी.,बी.ओ. डब्ल्यू. स्ट्रिंग कंपोजिट एवं प्लेट गर्डर का निरीक्षण एवं क्यू.ए.पी., डब्ल्यू.पी.एस.एस., डब्ल्यू.पी.क्यू.आर. का नियमित अनुमोदन।
  18. ट्रैक, सवारी डिब्बा एवं माल डिब्बा निदेशालय से प्राप्त रबर एवं कंपोजिट के नमूनों की नियमित जांच ।
  19. असफल रोलिंग स्टॉक घटकों की नियमित जांच - भारतीय रेल के लगभग 160 प्रकरण/प्रतिवर्ष।
  20. मानक विकासशील संगठन के तहत निम्नलिखित राष्ट्रीय मानकों का विकास ।
    • न्युमेटिक टूल ऑयल के लिये विशिष्टि सं आईएस/आर.डी.एस.ओ./एमएण्डसी/2201ः 2023
    • मशीन टूल वे तेलों के लिए विशिष्टि सं आईएस/आर.डी.एस.ओ./एमएण्डसी/2202ः 2023
    • उच्च प्रदर्षन वाले संक्षारणरोधी एपॉक्सी पेंट (दो पैक) के लिए विषिष्टि सं आईएस/आर.डी.एस.ओ./एमएण्डसी/2203ः 2023
  21. सीबीसी कपलर की विफलता जांच रिपोर्ट का सार-संग्रह ।

 

वर्तमान कार्यभार:

  1. भारतीय रेलवे में उपयोग की जाने वाली आर 880, आर 260, 1080 एच एच और 350 एच टी ग्रेड रेलों एवं विभिन्न पहियों (कास्ट, रोल्ड एवं फोर्ज्डद्) के बीच घर्षण गुणों का मूल्यांकन ।
  2. आर.डी.एस.ओ. के मानक वाले और गैर मानक वाले इस्पात गर्डर स्पैन के निर्माण के लिए डब्ल्यू.पी.एस.एस. मॉडल का मानकीकरण ।
  3. “द क्लू“ त्रैमासिक पत्रिका का प्रकाशन जो कि  एम. आई. टी. सेक्शन द्वारा की गयी विफलता जांचों का संग्रह है । 
  4. रेल वेल्ड और रेल परीक्षण के लिए फेज्ड ऐरे अल्ट्रासोनिक परीक्षण  (पी.ए.यू.टी.) के लिए विशिष्टि का विकास।

 

 

 

धातुकर्म और रसायन (एम एंड सी) विभाग के परीक्षण शुल्क

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 



Source : आरडीएसओ में आपका स्वागत है CMS Team Last Reviewed on: 08-04-2024  

  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.