Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways View Content in Hindi RDSO Logo
   
View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

वर्टिकल्स

निविदाएं

प्रदायक इंटरफ़ेस

विनिर्देश/आरेखण

हमसे संपर्क करें



Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
पुल और संरचना

निदेशालय की भूमिका
  • रेलवे पुलों (स्टील, कम्पोजिट, पीएससी और आरसीसी), रोड ओवर ब्रिज (कम्पोजिट और बो स्ट्रिंग), फुट ओवर ब्रिज, स्टील ब्रिज स्लीपर आदि के लिए मानक चित्र जारी करना।
  • पुल लोडिंग, डिजाइन, योजना, निर्माण आदि से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर कोड, मैनुअल और दिशानिर्देशों को जारी करना और इनका अद्यतनीकरण।
  • मेट्रो और गैर-मानक महत्वपूर्ण रेलवे पुलों की डिजाइन आधार रिपोर्ट की मंजूरी।
  • नए रोलिंग स्टॉक के परीक्षण और संचालन को सुविधाजनक बनाने के लिए ब्रिज के दृष्टिकोण से विभिन्न रोलिंग स्टॉक के लिए स्पीड सर्टिफिकेट की जांच करना।
  • भारतीय रेलवे पर पुलों के लिए नई तकनीक का विकास और उसे अपनाना नई तकनीक को शामिल करने के लिए किया जाता है।
  • पुलों के निर्माण के दौरान गुणवत्ता आश्वासन के लिए स्टील गर्डर फैब्रिकेशन, इलास्टोमेरिक बियरिंग्स, पॉट-पीटीएफई बियरिंग्स, विस्तार जोड़ों और एचएसएफजी बोल्टिंग असेंबलियों के लिए विक्रेताओं का पंजीकरण किया जाता है।
  • नए निर्मित स्टील ब्रिज गर्डर्स का निर्माण निरीक्षण, जहां आरडीएसओ को जोनल रेलवे द्वारा एक निरीक्षण एजेंसी के रूप में नियुक्त किया गया है, इन स्टील गर्डर्स की गुणवत्ता निर्माण सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है।
  • पुलों पर एलडब्ल्यूआर/सीडब्ल्यूआर की निरंतरता के लिए जोनल रेलवे के लिए बैलास्टेड डेक पुलों के लिए रेल स्ट्रक्चर इंटरेक्शन (आरएसआई) विश्लेषण।
  • क्षेत्रीय रेलवे द्वारा निर्दिष्ट पुलों पर एनडीटी परीक्षण और उपकरणीकरण किया जाता है।
  • भारतीय रेलवे पर पुलों से संबंधित विभिन्न तकनीकी मुद्दों पर चर्चा और अंतिम रूप देने के लिए पुल और संरचना मानक समिति की बैठकें आयोजित की जाती हैं।
  • नए लोडिंग मानकों का विकास और बाढ़ से संबंधित मुद्दों से निपटना। जोनल रेलवे को पुल संबंधी परामर्श सेवाएं देना भी प्रमुख कार्यों में से एक है।

 

संगठन चार्ट –

पिछले एक वर्ष और वर्तमान वर्ष के दौरान निदेशालय की संक्षिप्त उपलब्धियां-

  1. स्कीउ (तिरछा) कोण > 200 और 300 तक हेतु आरडीएसओ में मौजूद मानक 18मी0, 24मी0, 30मी0 और 36मी0 आरओबी आरेखणों की उपयुक्तता की जाँच कर रिवाईज्ड ड्राइंग जारी की गयी।
  2. पुल के लिए विभिन्न प्रकार के रोलिंग स्टॉक के 338 गति प्रमाण पत्रों तथा 84 परीक्षण रिपोर्टों  की जाँच की गयी।
  3. स्टील ब्रिज गर्डर, इलास्टोमेरिक बियरिंग, पाट-पीटीएफई बियरिंग, एक्सपेंशन जॉइंट्स और एचएसएफजी बोल्ट्स के 71 वेंडरों को मंजूरी दी गयी।
  4. क्षेत्रीय रेलवे को, रिपोर्ट संख्या बीएस-122 (आर1) “महत्वपूर्ण पुलों के लिए डिजाईन बेसिस रिपोर्ट के अनुमोदन के दिशानिर्देश (संशोधन-1)” को संशोधित करके अगस्त, 2022 में जारी किया गया है।
  5. आरसीसी बाक्स के आरयूबी कम्पैंडियम का कार्य किया गया । यह भारतीय रेलवे पर आरयूबी की योजना बनाने, डिजाईन करने और क्रियान्वित करने में फील्ड इंजीनियरों की मदद करेगा।
  6. 20 पुलों (एनईआर का 1, सीआर का 14, ईसीआर का 4 और एसईसीआर का 1) के लिए इन्स्ट्रूमेंटेशन स्कीम की तकनीकी स्वीकृति की गयी ।
  7. 6 मी0 एफओबी, 25-30 मी0 स्पैन जिनमें कम्पोजिट गर्डर के रूप में मुख्य गर्डर, कॉलम एवं छत पर ट्यूबलर सेक्शनों एवं डाग लैग्ड रैम्प की डिजाईन एवं ड्राइंग जारी किया गया।
  8. आईआरसी एसपी: 84 में संशोधन होने के कारण, 60 मी0, 54 मी0 और 48 मी0 स्पैन के एनएचएआई टू लेन वन वे (फोर लेन) एनएचएआई के लिए, बो स्ट्रिंग गर्डर की ड्राइंग को संशोधित तथा जारी किया गया (आरडीएसओ/बी-10434 से 10434/11, आरडीएसओ/बी-10435 से 10435/11) और (आरडीएसओ/बी-10436 से 10436/11)।
  9. नवीनतम आईआरसी स्पेसिफिकेशन के अनुसार संशोधित डेक की चौड़ाई के लिए 18मी0, 24मी0, 30मी0 और 36मी0 की आरडीएसओ मानक आरओबी ड्राइंग का संशोधन कर जारी किया गया।
  10. 91.4 मीटर ओपन वेब गर्डर की ड्राइंग को स्फेरिकल बीयरिंग को समायोजित करने के लिए संशोधित किया गया है और ड्राइंग क्रमांक आरडीएसओ/बी-17184/9 द्वारा जारी किया गया है।
  11. आईआरएस ब्रिज रुल्स (तीसरा रिप्रिंट-2014) में एसीएस-51 के द्वारा क्लॉज 2.8.2.4.3 के सब क्लॉज (बी) (डी) एवं (जी) जो बैलास्ट लैस ट्रैक (बी एल टी) पुल से संबंधित है, को जारी किया गया।
  12. भूकंपीय क्षेत्र 5 के लिए 25 टन लोडिंग -2008 के अनुरुप सीवियर एनवायरन्मेंट एक्सपोजर स्थिति के लिए 12.2 मी0 पोस्ट टेंशन वाले पीएसबी स्लैब (4 यूनिट) के लिए 4मी0 और 4मी0 से अधिक और 6मी0 तक की ऊँचाई के आरसीसी (एम-35) के मानक डिजाइन और ड्राइंग को क्षेत्रीय रेलों को जारी कर दिया गया।
  13.  आरडीएसओ वेबसाइट पर फूटपाथ के प्रावधान के साथ 25 टन लोडिंग के  लिए 12.2 मी0 पीएससी 2 आई- गर्डर का नया डिजाइन और ड्राइंग जारी किया गया।
  14. इलास्टोमेरिक बियरिंग, पॉट – पीटीएफई बियरिंग और एक्सपेंशन ज्वाईंट के लिए स्टैन्डर्ड क्वालिटी एश्योरेंस प्लान (क्यूएपी) फरवरी 2023 में जारी किया गया।
  15. उदयपुर में आयोजीत अंतर्राष्ट्रीय तकनीकी संगोष्ठी के दौरान “भारतीय रेलवे नेटवर्क पर उच्च गति और हॉयर ऐक्सल लोड के लिए मौजूदा रेलवे पुलों की उपयुक्तता” पर तृतीय सर्वश्रेष्ठ तकनीकी पेपर प्रस्तुत करने पर श्री बी.पी. अवस्थी,पीईडी (इन्फ्रा- द्वितीय) और टीम को श्री के.सी. सूद मेमोरियल अवार्ड प्रदान किया गया।
  16. 24 तथा 25 फरवरी 2023 को कोलकाता में आयोजित एक अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार में  “उच्च गति और हॉयर ऐक्सल लोड के यातायात रेजीम के लिए मौजूदा रेल पुल बुनियादी ढाँचे क्रियान्वयन  में चुनौतियां” पर श्री बी. पी. अवस्थी, पीईडी (इन्फ्रा- द्वितीय)  तथा टीम द्वारा एक तकनीकी पेपर प्रस्तुत किया गया।
  17. भूकंपीय क्षेत्र II,III एवं IV के लिए 25 टन लोडिंग -2008 के अनुरुप सीवियर एनवायरन्मेंट एक्सपोजर स्थिति के लिए 12.2 मी0 पोस्ट टेंशन वाले पीएसबी स्लैब (4 यूनिट) के लिए 4मी0 और 4मी0 से अधिक और 6मी0 तक की ऊँचाई के आरसीसी (एम-35) के मानक डिजाइन और ड्राइंग को क्षेत्रीय रेलों को जारी कर दिया गया।
  18.  12 मी0 एफओबी स्पैन 25मी0-30मी0 की मानक डिजाइन अमृत भारत स्टेशन स्कीम के लिए जारी किया गया।
  19.  वी शेप कॉलम एवं 1 इन 8 स्ट्रेट रैम्प की मानक डिजाइन को 12मी0 एफओबी के लिए जारी किया गया।
  20.  आईआरएस सेस्मिक कोड (रिविजन 2020) के अनुसार रेलवे ब्रिज में प्लेट गर्डर के ड्राइंग 12.2मी0,18.3मी0, एवं 24.4मी0 स्पैन को संशोधित किया गया।
  21.  बीजीएमएल, आरबीजी एवं एमबीजी-1987 लोडिंग के अनुसार डिजाइन किए गये पुलों को 25 टन लोडिंग 2008, 100 किमी प्रति घंटा डीएफसी फीडर रूट्स पर और 25 टन के चिन्हित रुट्स पर चलाने हेतु गाईडलाईन्स फॉर सुटेबिलिटी ऑफ एक्सिस्टिंग ब्रिज (कम्पोजिट/आरसीसी/पीएससी सुपर-स्ट्रक्चर) जारी किया गया।
  22. संशोधित ड्राइंग आरडीएसओ/बी-10275आर श्रृंखला और ड्राइंग आरडीएसओ/बी-10275/4 (एएलटी.-1) इलास्टोमेरिक बेयरिंग के लिए 12.2 मीटर पोस्ट टेंशन यू गर्डर के लिए 25टी 2008 लोडिंग के लिए जारी किए गए।
  23. 4 ट्रैक के लिए सिग्नल गैन्ट्री कि ड्राइंग जारी की गयी ।
  24. प्रोटेक्शन प्लेट अरेंजमेंट का उपयोग करके आरसीसी बॉक्स पुशिंग की मानक ड्राइंग आरडीएसओ/बी-10161 और आरडीएसओ/बी-10161/1 जारी की गई।
  25. 25 टन 2008 लोडिंग के 18.3 मीटर स्पैन पीएससी यू गर्डर (पोस्ट टेंशन्ड) के लिए संशोधित डिजाइन/ड्राइंग श्रृंखला जारी की गई।
  26. माइक्रो-टनलिंग द्वारा पाइप-पुशिंग के लिए दिशानिर्देश जोनल रेलवे को सितंबर 2023 में जारी किए गए हैं।
  27. 87वीं बीएससी बैठक 29-30 सितंबर 2023 को श्रीनगर में सफलतापूर्वक आयोजित की गई।
  28. आईआरबीएम में एसीएस-39 क्लॉज 1107 (7) (एच) में संशोधन के संबंध में एवं एसीएस-40 क्लॉज 604 में संशोधन के संबंध में को जारी किया गया है।
  29. संशोधित ईपीए (12-15 वर्गमीटर) के लिए 180 किमी प्रति घंटे विंड स्पीड के लिए 3 लेग्ड लैटिस टावर और मोनोपोल टावर के लिए एलटीई/कवच टावरों का मानक डिजाइन जारी किया गया है।

 

वर्तमान असाइनमेंट

  1. ओपन वेब गर्डर्स के, एक स्पैन के ड्राइंग के डिजाइन का मानकीकरण 25 टन लोडिंग हेतु गिट्टी वाले डेक के लिए एवं पैसेंजर ट्रेन पर 220 केएमपीएच की गति के लिए इसकी उपयुक्तता की जाँच।
  2. “रेलवे पुलों के सब स्ट्रक्चर व लांगिट्यूडनल बलों का मूल्यांकन और प्रबंधन” पर सीएसआईआर-एसीईआरसी के साथ अनुसंधान परियोजना।
  3. बी एंड एस लैब का उन्नयन।
  4. 25 टन लोडिंग के लिए बेयरिंग/स्लैब सहित कंक्रीट गर्डर्स के सभी मानक आरेखों की विस्तृत जाँच।
  5. विभिन्न एक्सल लोड और स्पीड कॉनफिग्रेशन हेतु आरडीएसओ के मौजूदा ब्रिज सुपरस्ट्रक्चर मानक का गतिशील विश्लेषण और मूल्यांकन।
  6. ब्रिज फाउंडेशन की कंटीन्यूअस स्कॉर मॉनिटरिंग के क्षेत्रीय परिक्षण हेतु एप्रिसिएशन रिपोर्ट तैयार करना।
  7. पश्चिम रेलवे के वसई क्रीक ब्रिज पर टीएजी।
  8. आईआरएस ब्रिज सबस्ट्रक्चर और फाउंडेशन कोड के ड्राफ्ट ए एंड सी स्लिप नंबर-10 जारी करना।
  9. वेल एंड पाइप फाउंडेशन के डिजाइन और निर्माण आधारित मैनुअल की समीक्षा।
  10.  नवीनतम आईआरसी स्पेसिफिकेशन के अनुसार एनएचएआई दो लेन वन वे (चार लेन) संशोधित डेक चौड़ाई हेतु 42 मी0 और 72 मी0 क्लीयर स्पैन के आरडीएसओ मानक बो स्टिंग गर्डर आरओबी का संशोधन।
  11.  एनईआर के मांझी ब्रिज का टीएजी।
  12. पीएससी 'यू' स्लैब/गर्डर के आरडीएसओ मानक डिजाइन का संशोधन।
  13. नवीनतम आईआरसी विनिर्देशों के अनुसार एनएचएआई दो लेन एक तरफ (चार लेन) संशोधित डेक चौड़ाई के लिए 48 मीटर स्पष्ट स्पैन के आरडीएसओ मानक बोल्टेड बो स्ट्रिंग गर्डर आरओबी ड्राइंग का विकास।
  14. 450 मिमी से अधिक फ्लैंज चौड़ाई के लिए कम ऊंचाई वाले एच-बीम स्लीपर का विकास, सभी मानक लोडिंग के लिए उपयुक्त।
  15. रिपोर्ट संख्या बीएस-123 का संशोधन।
  16. नवीनतम आईआरसी विनिर्देशों के अनुसार संशोधित डेक चौड़ाई के साथ 48 मीटर क्लियर स्पैन बोल्टेड टाइप टू लेन वन वे (फोर लेन) के आरडीएसओ मानक बो स्ट्रिंग गर्डर आरओबी ड्राइंग का विकास।
  17. आरडीएसओ मानक पीसीसी पियर ड्राइंग संख्या बीए-10337, बीए-10339, आरडीएसओ/बी-10345, 10347 और 10349/आर का संशोधन, आईआरएस ब्रिज सबस्ट्रक्चर और फाउंडेशन कोड के ए एंड सी स्लिप नंबर 7 के अनुसार।
  18. अमृत भारत योजना के तहत 15 से 20 मीटर स्पैन के लिए 12 मीटर चौड़े एफओबी के डिजाइन की संरचनात्मक जांच।
  19. चक्रवाती क्षेत्र के लिए संशोधित ईपीए (12-15 वर्गमीटर) के लिए 180 किमी प्रति घंटे की विंड स्पीड के लिए 3 लेग्ड लैटिस टावर और मोनोपोल टावर के लिए एलटीई/कवच टावरों का मानक डिजाइन।
  20. नवीनतम आईआरएस भूकंपीय कोड (2020) के अनुसार डीएफसी लोडिंग के लिए कंपोजिट गर्डर्स और प्लेट गर्डर्स के डिजाइन में संशोधन।

 

 

 



Source : आरडीएसओ में आपका स्वागत है CMS Team Last Reviewed on: 12-01-2024  

  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.