Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways View Content in Hindi RDSO Logo
   
View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

वर्टिकल्स

निविदाएं

प्रदायक इंटरफ़ेस

विनिर्देश/आरेखण

हमसे संपर्क करें



Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
भंडार

भंडार निदेशालय के बारे में:

भंडार निदेशालय आर0डी0एस0ओ0 के विभिन्न निदेशालयों की सामग्री आवश्यकताओं को पूरा करता है। यह आई0आर0ई0पी0एस0/जेम(GeM) से संबंधित मुद्दों के लिए आर0डी0एस0ओ0 का नोडल निदेशालय है। भंडार निदेशालय,सामग्री क्रय से संबंधित मामलों पर एक सलाहकार की भूमिका भी निभाता है।

     इसके दो इकाई हैं: क्रय कार्यालय और केन्द्रीय भंडार डिपो। क्रय कार्यालय प्रति वर्ष लगभग 1740 मांगों के विरुद्ध क्रय  करता है, जिसमें सिविल, दूरसंचार और विद्युत रखरखाव के लिए आवश्यक वस्तुओं से लेकर स्टेशनरी, कंप्यूटर, कपड़े, फर्नीचर, पेंट, तेल, स्नेहक, उपकरण और संयंत्र,छोटे मशीनों के स्पेयर जिसमे अनुसंधान एवं विकास मदों की खरीद भी शामिल हैं। केन्द्रीय भंडार डिपो  में 4 स्टॉकिंग वार्ड हैं, जिसमें 01-क्लॉथिंग वार्ड, 02-जनरल वार्ड, 03-स्टेशनरी वार्ड, और 04-एम0 एंड सी0 वार्ड  हैं, जिनमें लगभग 343 वस्तुओं का भंडारण और निर्गमन किया जाता है, जिनका वार्षिक टर्नओवर मूल्य लगभग रु. 1.97  करोड़ है। इसके अलावा, एक प्राप्ति और निरीक्षण वार्ड तथा एक स्क्रैप क्लीयरेंस अनुभाग भी है। आर0डी0एस0ओ0 के विभिन्न निदेशालयों से एकत्र की गई सभी अनुपयोगी (स्क्रैप) सामग्री को जनरल स्टोर्स डिपो, आलमबाग, उत्तर रेलवे, लखनऊ को भेजा जाता  है, जो आर0डी0एस0ओ0 के लिए नामित स्क्रैप निपटान केंद्र है।

 

संगठन चार्ट:

संक्षिप्त उपलब्धियाँ (2022-2023)

1. भंडार निदेशालय/आरडीएसओ ने आईआरईपीएस पोर्टल www.ireps.gov.in के माध्यम से वैश्विक, खुली और सीमित निविदाओं के लिए 100% ई-टेंडरिंग हासिल की है, जिसमें संभावित बिडर्स अपने डिजिटल हस्ताक्षरित और पूरी तरह से सुरक्षित ई-ऑफर जमा कर सकते हैं। भंडार निदेशालय ने प्रस्तावों की ई-स्वीकृति (ई-एलओए), ई-निविदा समिति (ई-टीसी) कार्यवाही और ईएमडी का ऑनलाइन रिफंड भी शुरू कर दिया है। स्टॉक और नॉन-स्टॉक मांग पत्र भी ऑनलाइन बनाये जा रहे हैं और आईएमएमएस के माध्यम से अग्रेषित किये जा रहे हैं, इस तरह पूर्ण डिजिटल आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन का वातावरण सुनिश्चित हो रहा है।

2. जेम पोर्टल पर उपलब्ध सामान्य वस्तुओं और सेवाओं को जेम पोर्टल के माध्यम से ही खरीदा जा रहा है।

3. यूनिफाइड वेंडर अप्रूवल मॉड्यूल (यूवीएएम) को सी आर आई एस (क्रिस) की मदद से लागू किया गया है जो कि आरडीएसओ, कोर और उत्पादन इकाईयों में पंजीकरण के लिए सभी विक्रेताओं के लिए एकल खिड़की के रूप में कार्य करता है। इससे विक्रेता पंजीकरण प्रक्रिया में पारदर्शिता और दक्षता बढ़ी है ।

4. फरवरी-2021 से आरडीएसओ में यूजर डिपो मॉड्यूल (यूडीएम) लागू किया गया है। इस प्रकार, आरडीएसओ के सभी निदेशालयों को यूडीएम प्लेटफॉर्म पर लाकर आपूर्ति श्रृंखला प्रणाली को पूरी तरह डिजिटल कर दिया गया है। नॉन-स्टॉक मदों का ऑनलाइन भुगतान भी फरवरी-2022 से शुरू कर दिया गया है।

5. वर्ष 2022-23 के दौरान, भंडार निदेशालय ने कुछ बहुत महत्वपूर्ण वस्तुओं की खरीद को अंतिम रूप दिया है जैसे कि रेलवे वाहनों के घर्षण ब्रेक, प्रतिरोधकता माप के परीक्षण के लिए ब्रेक डायनेमोमीटर, कंक्रीट संरचना के लिए उपकरण, कंक्रीट की स्कैनिंग के लिए ग्राउंड पेनेट्रेटिंग रडार स्कैनर संरचना, संक्षारण के लिए हाफ सेल सर्वेक्षक, प्रबलित कंक्रीट के सरिया का माप सेट, स्वचालित ट्राई एक्सियल शियर टेस्ट इक्विपमेंट,आदि I

 



Source : आरडीएसओ में आपका स्वागत है CMS Team Last Reviewed on: 21-02-2024  

  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.