Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways View Content in Hindi RDSO Logo
   
View Content in Hindi
National Emblem of India

About Us

Directorates

Tenders

Vendor Interface

Specifications/Drawings

Contact Us

 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

5th InnoRail Exhibition cum Conference held from 17.11.2022 to 19.11.2022

5वां इनोरेल प्रदर्शनी सह सम्मेलन 17.11.2022 से 19.11.2022 तक आयोजन

आरडीएसओ में 17 नवम्बर से चल रहे 5वें इनोरेल एवं अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन-2022 का दिनांक 19.11.2022 को समापन हुआ । इस प्रदर्शनी का उद्देश्य वैश्विक स्तर पर एक प्रभावी व्यापार नेटवर्किंग हेतु रेलवे क्षेत्र के सभी हितधारकों के लिए एक छत के नीचे आने और भारतीय रेलवे के लिए विक्रेता आधार को बढ़ाने के लिए एक तटस्थ मंच प्रदान करना था।
         महानिदेशक, आरडीएसओ, श्री संजीव भुटानी ने 17 नवंबर 2022 को 5वीं इनोरेल प्रदर्शनी सह सम्मेलन  का उद्घाटन किया । उन्होंने प्रदर्शनी में 50 से अधिक कंपनी स्टालों का भी दौरा किया और उन तकनीकों की जानकारी ली जिन्हें भारतीय रेलवे द्वारा अपनाया जा सकता है। अन्य रेलवे के 100 से अधिक आगंतुकों ने भी प्रदर्शनी का दौरा किया और नवीनतम तकनीकोण को जाना ।
          नई तकनीकी उपलब्धियों को जानने के लिए बड़ी संख्या में उद्यमियों, भारतीय सेना के अधिकारियों, विक्रेताओं और आम जनता ने भारतीय रेलवे के साथ नए व्यापार के अवसरों के लिए प्रदर्शनी का दौरा किया। दिनांक 18.11.2022 को श्री समीर लोहानी/ईडी/कैरिज द्वारा प्रौद्योगिकी और वंदे भारत के संचालन पर व्याख्यान और चर्चा की गयी , श्री एस के सूरी/सेवानिवृत्त महाप्रबंधक/आरसीएफ कपूरथला द्वारा हाइपरलूप संचालन पर वक्तव्य दिया गया एवं लाइटवेट रेलवे के विकास के लिए मानक स्टील के उपयोग पर श्री रणित राणा / महाप्रबंधक और प्रमुख - रेलवे जिंदल स्टेनलेस स्टील लिमिटेड पर जानकारी दी गयी साथ ही साथ श्री अमित श्रीवास्तव ईडी/रिसर्च/आरडीएसओ द्वारा हाइड्रोजन फ्यूल सेल पर आधारित हाइब्रिड पावर ट्रेन के विकास के बारे में भी जानकारी दी। इसके अतिरिक्त डीजी आरडीएसओ ने आरडीएसओ स्टॉल पर कवच और सिगडेट मॉडलों की भी समीक्षा की।
        तीसरे एवं समापन दिवस पर श्री ब्रज मोहन अग्रवाल जीएम/मॉडर्न कोच फैक्ट्री/रायबरेली और श्री अशेष अग्रवाल जीएम/रेल कोच फैक्ट्री/कपूरथला ने दिनांक 19.11.2022 को इनोरेल प्रदर्शनी का दौरा किया और उद्योग से जुड़े लोगों के साथ बातचीत की । इसके अतिरिक्त समवर्ती संगोष्ठियों का भी आयोजन किया गया जिसमें उद्योगों के कई प्रतिष्ठित वक्ताओं ने सभा को संबोधित किया। श्री अनिरुद्ध गौतम, PED/R&T/RDSO ने विश्वसनीयता, उपलब्धता, रखरखाव और सुरक्षा उपयोग पर एक व्याख्यान प्रस्तुत किया, श्री वीर नारायण तकनीकी निदेशक/परियोजना प्रबंधन (रेलवे और मेट्रो) सिस्ट्रा इंडिया लिमिटेड ने कंडीशनिंग, निगरानी और पूर्वानुमानित रखरखाव के बारे में बात की और श्री राहुल सिंह, निदेशक/ट्रैक मॉनिटरिंग/आरडीएसओ ने भारतीय रेलवे के लिए ट्रैक मॉनिटरिंग में आधुनिकीकरण और उन्नति के बारे जानकारी दी ।इसके अतिरिक्त पुल एवं रचना और आईओटी प्रौद्योगिकियों के लिए संरचनात्मक स्वास्थ्य निगरानी में प्रगति के संबंध में भी विभिन्न चर्चाएँ की गईं। न केवल उद्योग से बल्कि शैक्षणिक संस्थानों के छात्रों और यहां तक कि परिवारों और बच्चों ने भी बड़ी संख्या में प्रदर्शनी को देखा । यह आयोजन दर्शकों की उपस्थिति और सभी हितधारकों द्वारा संतुष्टि के लिहाज से बेहद सफल रहा।
महानिदेशक आरडीएसओ श्री. संजीव भुटानी ने सत्र का समापन किया और कहा कि यह आयोजन रेलवे, उद्योग की भागीदारी और उद्यमियों के मामले में वांछित परिणाम लाने में अत्यंत सफल रहा है।

5th InnoRail Exhibition cum conference held from 17.11.2022 to 19.11.2022

5th InnoRail and International Conference -2022 organized from 17th Nov 2022 has been concluded at RDSO o­n 19.11.2022. The exhibition was aimed to provide a neutral platform for all stakeholders of the railway sector to come under o­ne roof for an effective business networking with key people from across the globe and to increase the vender base for Indian Railways.
         DG, RDSO, Shri Sanjiv Bhutani inaugurated the 5th InnoRail exhibition and commenced the exhibition o­n 17 Nov-2022. He also visited more than 50 company stalls there in the exhibition and explored the technologies which could be adopted by Indian Railways. More than 100 Visitors form other Railways also visited the Exhibition and explored the latest technological advancements.
          A large no of entrepreneurs, Indian Army officers, vendors, and general public visited the exhibition for new business opportunities with Indian Railways and explored the new technological achievements. Lectures and discussions were also made o­n technology and operations of Vande Bharat o­n 18.11.2022 by Shri Sameer Lohani /ED/Carriage, o­n Hyperloop operations by Shri S K Suri / Retired General Manager / RCF Kapurthala, use of standard steel for development of lightweight railway coaches by Mr. Ranit Rana / GM & Head - Railways Jindal Stainless Steel Ltd and Mr. Amit Srivastava ED Research/RDSO also briefed about the development of hybrid power train, based o­n Hydrogen Fuel Cell. Apart from this, DG RDSO also reviewed Kavach and SigDATe model at RDSO stall.
        o­n, the 3rd and concluding day, Shri Braj Mohan Agrawal GM/Modern Coach Factory/Raebareli and Shri Ashesh Agrawal GM/Rail Coach Factory/Kapurthala visited the InnoRail exhibition and interacted with industry persons at the stalls o­n 19.11.2022. Concurrent seminars were also organised today in which several eminent speakers from Industries addressed the gathering. Shri Anirudh Gautam, PED/R&T/RDSO presented a lecture o­n reliability, availability, maintainability & safety utilization, Shri Veer Narayan Technical Director/Project Management (Railways & Metros) SYSTRA India Ltd. spoke about conditioning, monitoring & predictive maintenance and Shri Rahul Singh, Director/ Track Monitoring/RDSO spoke about modernisation and advancement in track monitoring for Indian Railways. Various discussions were also made regarding advancement in structural health monitoring for bridges & structures and IOT technologies. There was again huge foot fall of visitors not from o­nly industry but also students from educational institutions and even families and children. The event was extremely successful both in terms of footfalls and level of satisfaction by all stakeholders.
Director General RDSO Sri. Sanjiv Bhutani concluded the session and said that the event has been very successful in bringing out the desired outcome in terms of railways, Industry participation and entrepreneurs.