Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways RDSO Logo
   
View Content in Hindi
National Emblem of India

About Us

Directorates

Tenders

Vendor Interface

Specifications/Drawings

Contact Us

 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

Celebration of 73rd Republic day in RDSO

आर.डी.एस.ओ. में 73वां गणतंत्र दिवस का आयोजन

आरडीएसओ में 73वां गणतंत्र दिवस पूरे उत्साहएवं उल्लास के साथ मनाया गया। गणतंत्र दिवस के इस  समारोह में श्री संजीव भुटानी, महानिदेशक/आरडीएसओ ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और आरपीएफ टुकड़ी की सलामी ली। आरडीएसओ स्टेडियम में अधिकारियों और कर्मचारियों के सीमित संख्या एवं एहतियात के साथ कोविड -19 के दिशानिर्देशों का पूरी तरह  पालन करते हुए गणतंत्र दिवस समारोह का आयोजन किया गया।
इस अवसर पर सभा को संबोधित करते हुए, श्री संजीव भुटानी, महानिदेशक/आरडीएसओ ने कोविड योद्धाओं-चिकित्सा कर्मचारियों और स्वच्छता कर्मचारियों को उनके उल्लेखनीय कार्य के लिए धन्यवाद दिया। महानिदेशक महोदय ने आरडीएसओ के कई प्रमुख उपलब्धियों और विकासात्मक पहलुओं पर भी प्रकाश डाला | अपने सम्बोधन में उन्होंने  कहा कि यह गर्व का विषय है कि रेल मंत्रालय का एकमात्र अनुसंधान एवं मानक संस्थान आरडीएसओ भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) के ‘‘एक राष्ट्र एक मानक’’ मिशन के अंतर्गत मानक विकास संगठन (एसडीओ) के रूप में घोषित पहली संस्था बन गया है। आरडीएसओ ने पूर्ण स्वदेशी तकनीक पर आधारित वंदे भारत ट्रेन का विकास किया एवं  टक्कर और बचाव की महत्वपूर्ण प्रणाली कवच नामक एक नई सिग्नलिंग प्रणाली का विकास किया है।वेंडर रजिस्ट्रेशन में तेजी लाने हेतु  आरडीएसओ  नियंत्रण मद की आपूर्ति के लिए ऑनलाइन पंजीकरण के लिए पंजीकरण शुल्क 2.5 लाख रुपये से घटाकर मात्र 15000 रुपये कर दिया गया है और परीक्षण शुल्क भी पूरी तरह से माफ कर दिया गया है। इन महत्वपूर्ण निर्णयों के फलस्वरूप पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष पंजीकृत किए गए वेंडर 76.5% अधिक है। मेट्रो के सुरक्षा प्रमाणीकरण के लिए ऑनलाइन पंजीकरण से  पारदर्शिता लाने और अनुमोदन प्रक्रिया में लगभग 30% की तेजी लाई गयी है।  आरडीएसओ इस वर्ष  11 दोलन परीक्षण और 15 अन्य परीक्षणों को संपादित किया।  आरडीएसओ द्वारा 130 KMPH  की गति क्षमता वाले WAP-7 इंजन के भार में 14.5 टन की कमी कर इसे 160 KMPH की गति के लिए उपयुक्त बना दिया है। आरडीएसओ के वैगन निदेशालय ने  एल्युमिना, फ्लाई ऐश, सीमेंट और आयरन क्वाइल  के परिवहन के लिए उपयुक्त बी.टी.एफ.सी टैंक वैगन एवं बी.एफ.एन.वी वैगन का विकास किया  है।
आरडीएसओ द्वारा ज्वलनशील खाना पकाने वाली पेंट्री कार के लिए विद्युत् योजना को अंतिम रूप दिया गया । “मेक इन इंडिया” पहल के अंतर्गत आरडीएसओ ने सीएलडबल्यू के सहयोग से 9000 HP  के विद्धुत इंजन WAG-9HH एवं 6000 HP क्षमता वाले WDG 6G  रेल इंजन का विकास किया है। जिसके द्वारा भारी मालगाड़ियों  के संचालन में सुविधा मिलेगी। आरडीएसओ ने यात्रियों के यात्रा को यादगार बनाने के लिए विस्टाडोम टुरिस्ट कोच, रेल परिवहन क्षमता में सुधार के साथ-साथ यात्रियों के भाड़े में कमी हेतु एयर स्प्रिंगयुक्त एलएचबी वातानुकूलित थ्री-टायर एकोनोमी क्लास कोच एवं FMCG के सुगम परिवहन के लिए ICF एसी कोच   का विकास किया। डबल और ट्रिपल DWARF कंटेनर का विकास एवं गार्ड रहित मालगाड़ी के लिए एंड ऑन ट्रेन टेलीमेट्री (ईओटीटी) शुरू करने की भी योजना पर कार्य कर रहे हैं। 
अपने संबोधन में महानिदेशक महोदय ने बताया कि राष्ट्रीय डिजिटल भारत पहल के तहत आरडीएसओ द्वारा ऑनलाइन यूवीएएम पोर्टल का विकास  किया गया है, जो कि रेल कार्यों से जुड़े वेंडरों को अधिक से अधिक जोड़ेगा, यह पोर्टल उद्योग जगत के लिए सरलता एवं पारदर्शिता लाने में महत्वपूर्ण साबित होगा l COVID से निपटने के  लिए आरडीएसओ अस्पताल में आक्सीजन की आपूर्ति के लिए 180 LPM क्षमता का पीएसए संयंत्र स्थापित किया एवं आरडीएसओ अस्पताल को स्वतंत्र अस्पताल दर्जा दिया गया। 
इस अवसर पर  आजादी के 75 वें वर्ष को  ‘आजादी का अमृत  महोत्सव’ के अन्तर्गत आयोजित किए गए  कविता, स्लोगन, पोस्टर, निबन्ध आदि विभिन्न प्रतियोगताओं  में शामिल प्रतिभागियों को प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान पाने वाले विजेताओं  को पुरुस्कृत किया गया। 
इस अवसर पर श्रीमती निशा भुटानी, अध्यक्षा RWWA एवं आरडीएसओ के अन्य सभी  वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे और अन्य अधिकारी और कर्मचारी वेबकास्ट के माध्यम से समारोह में शामिल हुए। इस अवसर पर एक संक्षिप्त  सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किया गया।       
Celebration of 73rd Republic Day in RDSO

73rd Republic Day was celebrated in RDSO with full enthusiasm and vigor Shri Sanjeev Bhutani, DG/RDSO unfurled the National Flag and took the salute of RPF contingent during the Republic Day celebrations. The Republic Day celebrations were organized at RDSO Stadium with limited number of officers and staff and with precautionary measures, strictly following the guidelines of Covid-19.
Addressing the gathering o­n the occasion, Shri Sanjeev Bhutani, DG/RDSO thanked the COVID warriors - medical staff and sanitation workers for their remarkable work. The Director General also highlighted several major achievements and developmental aspects of RDSO. In his address, he said that it is a matter of pride that RDSO, the o­nly Research and Standards Institute of the Ministry of Railways, has been declared as the first Standard Development Organization (SDO) under the "One Nation o­ne Standard" mission of Bureau of Indian Standards (BIS).  RDSO developed Vande Bharat train based o­n fully indigenous technology and also developed a new signaling system Kavach, a critical collision and avoidance system. The registration fee for o­nline registration for supply of RDSO control item has also been reduced from Rs 2.5 lakh to just Rs 15000 and the test fee has also been completely waived off to attract vendor registration. As a result of these important decisions, there is an increase of 76.5% in vendor registration as compared to the previous year. o­nline registration for safety certification of Metro has helped in bringing transparency and reducing the processing time to 30%. RDSO has 11 oscillation trials  and 15 other tests.  RDSO has developed  WAP-7HS engine with a speed capability of KMPH reduceing its weight by  14.5 tonnes to make it suitable for speeds of 160 KMPH. The Wagon Directorate of RDSO has developed BTFC Tank Wagon and BFNV Wagon suitable for transportation of Alumina, Fly Ash, Cement and Iron Coil.
The Director General in his address said that the Electric Scheme for a Flameless Cooking Pantry Car has been finalized by RDSO Under the “Make in India” initiative, RDSO in collaboration with CLW has developed 9000 HP electric locomotive WAG-9HH and 6000 HP capacity WDG6G locomotive. Through which the operation of heavy goods will be facilitated. RDSO has introduced Vistadome Tourist Coach to make the journey of passengers memorable, Air Springe equipped LHB Air-conditioned Three-Tier Economy Class Coach to improve rail transport efficiency as well as reduction in passenger fare and ICF AC Coach for smooth transportation of FMCG. RDSO is also working o­n plans to develop double and triple DWARF containers and introduce the End o­n Train Telemetry (EOTT) for guardless freight trains.
In his address, the Director General informed that o­nline UVAM portal has been developed by RDSO under the National Digital India Initiative to connect more and more vendors related to rail works..This portal will facilitate ease and transparency for industry. To deal with COVID, 180 LPM capacity  PSA plant has been set up for supply of oxygen in RDSO Hospital and RDSO Hospital has been given independent hospital status.
On this occasion, participants of various competitions like poetry, slogans, posters, essays writing etc. organized under 'Azadi Ka Amrit Mahotsav' o­n the 75th year of independence were awarded to the first, second and third place winners..
On this occasion Smt. Nisha Bhutani, President RWWA and all other senior officers of RDSO were also present and other officers and employees joined the function through webcast. A brief cultural program was also organized o­n the occasion.























  Admin Login | Site Map | Contact Us | Disclaimer | Terms & Conditions | Privacy Policy Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2016  All Rights Reserved.

This is the Portal of Indian Railways, developed with an objective to enable a single window access to information and services being provided by the various Indian Railways entities. The content in this Portal is the result of a collaborative effort of various Indian Railways Entities and Departments Maintained by CRIS, Ministry of Railways, Government of India.